Home heel Tip cracked heels

Tip cracked heels

फटी एड़ियां दर्द करने के अलावा काफी अजीब भी दिखती हैं। जो लोग कठिन प्रकार के करते हैं, उन्हें इस समस्या का काफी सामना करना पड़ता है। ये समस्या आमतौर पर ठण्ड के मौसम में होती है, परन्तु कई महिलाओं एवं पुरूषों को यह परेशानी गर्मी के मौसम में भी हो जाती है। आमतौर पर जिनकी उम्र २५ साल से ज़्यादा है, उन्हें यह समस्या ज़्यादा होती है, परन्तु अगर देखा जाए तो इस समस्या का उम्र से कोई लेना देना नहीं होता।

 

फटी एड़ियों के निम्नलिखित कारण होते हैं: –heel cracked

१. पैरों से काफी काम लेना

२. त्वचा का सूखा पड़ जाना

३. काफी समय तक खड़े रहना

 

४. कठोर ज़मीन

५. खराब क्वालिटी की सैंडल पहनना

६. मधुमेह और त्वचा की अन्य परेशानियां

फटी एड़ियां ठीक करने के उपाय

१. हमेशा जूतों के साथ मोज़े पहने रहे। इससे फटी एड़ियों से राहत मिलती है।

 

२. अगर आपको फटी एड़ियों से राहत पानी है तो सही नाप के तथा आरामदायक जूतों का चुनाव करें। इससे पैरों को आराम मिलेगा।

३. घर में पानी गर्म करें। इस पानी में सोडियम तथा वेसिलीन मिलाएं तथा इस मिश्रण में १ घंटे तक पैर डुबोकर रखें। तय समय के बाद एड़ियों को किसी खुरदुरी चीज़ से साफ़ करें। सोने से पहले पैरों की एड़ियों में कोई क्रीम लगाकर सोएं। आपको पूरी तरह ठीक होने में कुछ दिनों से १ हफ्ते का समय लगेगा।

४. खानपान सही करने से भी फटी एड़ियां ठीक होती हैं। सही खानपान के लिए दूध, दही, ताज़ी सब्ज़ियों, मांस तथा अन्य पोषक पदार्थों का सेवन करें।

५. पैरों की एड़ियों में ग्लिसरीन तथा गुलाबजल का मिश्रण लगाएं। इससे आपकी एड़ियां मुलायम हो जाएंगी।

६. फलों या सब्ज़ियों का रस लें। इस रस में १५ मिनट तक अपने पैर डुबोकर रखें। अगर इससे आपके पैरों में जलन हो तो घबराएं नहीं, क्योंकि इसमें एसिड की मात्रा होती है, पर यह आपकी त्वचा के लिए काफी अच्छा होता है।

७. नारियल का रस फटी एड़ियों के लिए काफी अच्छा होता है। यह आपको सुकून देता है। आप ऐसी क्रीम्स का भी प्रयोग कर सकते हैं जो नारियल के रस से युक्त हों।

८. शहद की मदद से भी फटी एड़ियां ठीक हो सकती हैं। यह उपाय काफी प्रभावी होता है।

फटी एड़ियों के लक्षण (Symptoms of cracked heels)

फटी एड़ियों के मुख्य लक्षण लालपन, खुजली, जलन एवं त्वचा की परतों का निकलना होता है। अगर इसका समय से उपचार ना किया गया तो इससे गहरी दरारें, खून निकलना तथा असहनीय दर्द जैसी समस्याएं सामने आ सकती हैं। इस समय एड़ियों के पास की त्वचा काफी कड़ी हो जाती है। पैरों के नीचे कई दरारें दिखने लगती हैं। त्वचा के उपरी भाग के सिकुड़ने से यह खिंचती है, जिससे खुजली हो सकती है।

फटी एड़ियां ठीक करने के घरेलू नुस्खे (Home remedies for cracked heels)

वनस्पति तेल से मसाज (Oil massages with vegetable Oils)

इन तेलों में मुख्य है जैतून का तेल (olive oil), तिल का तेल, या नारियल का तेल। इन तेलों की मदद से आप अपनी फटी एड़ियों की अच्छे से मालिश कर सकते हैं। गर्म साबुन के पानी में अपने पैरों को दुबोयें तथा इसके बाद इन्हें प्युमिस स्टोन (pumice stone) की मदद से स्क्रब (scrub) करें। इन्हें अच्छे से धोकर पूरी तरह सुखा लें। अब अपने पैरों की एड़ियों में किसी भी वनस्पति तेल का प्रयोग करें एवं इसके बाद मोज़े पहन लें। इस प्रक्रिया को कुछ दिनों तक या तब तक जारी रखें, जब तक कि आपकी एड़ियों का रूखापन तथा फटने की समस्या पूरी तरह दूर ना हो जाएं।

नींबू, नमक, ग्लिसरीन तथा गुलाबजल का फुट मास्क (Lemon, Salt, Glycerine, Rose Water Foot Mask for cracked heels)

यह मास्क पहले चरण की फटी हुई एड़ियों को ठीक करने के सबसे बेहतरीन घरेलू नुस्खों में से एक है। अपने पैरों को गर्म पानी में डुबोएं, जिसमें पहले से कच्चा नमक, नींबू का रस, ग्लिसरीन तथा गुलाबजल का मिश्रण किया गया हो। पैर की एड़ियों से रूखी त्वचा को सबसे पहले स्क्रब कर लें। अब अपनी फटी एड़ियों पर मोटी परत में ग्लिसरीन तथा नींबू के रस का प्रयोग करें। इसके बाद अपने पैरों को मोज़े से ढक लें तथा रातभर इसी तरह छोड़ दें। सुबह उठकर अपने पैरों को धो लें।

मसले हुए फलों से मसाज (Mashed Fruits Massage to heal cracked feet)

मसले हुए पके केले को अपनी फटी हुई एड़ियों पर लगाएं तथा इसे 15 मिनट के लिए इसी तरह छोड़ दें। समयसीमा समाप्त होने पर इसे धो लें। केले के अलावा अवोकेडो (avocado), नारियल के गूदे या पपीते का प्रयोग भी फटी एड़ियों के रखरखाव एवं उपचार में आसानी से किया जा सकता है। यह एक काफी आसान नुस्खा है, जिसका इस्तेमाल आप बिना किसी ज्यादा परेशानी के कर सकते हैं।

चावल के आटे से मृत त्वचा निकालना (Exfoliating with rice flour for cracked heel)

फटी एड़ियों की मृत त्वचा को निकालने के लिए यह एक काफी असरदार और बेहतरीन तत्व साबित होता है। त्वचा की मृत कोशिकाएं निकल जाने से एड़ियों को रूखेपन और फटने की समस्या से पूरी तरह निजात मिल जाती है। चावल के आटे, शहद और सेब के सिरके का प्रयोग करके एक पेस्ट (paste) का निर्माण करें। अब पैरों को गर्म पानी में डुबोएं तथा इसके बाद पेस्ट का प्रयोग अपनी एड़ियों पर करें। बेहतरीन और असरदार परिणामों के लिए इस प्रक्रिया का पालन रोजाना करने का प्रयास करें। अगर आपके पैर की एड़ियों की दरारें काफी गहरी हैं, तो इनका सही प्रकार से उपचार करने के लिए आप जैतून के तेल या मीठे बादाम के तेल का प्रयोग भी कर सकते हैं।

मोम और सरसों के तेल का उपचार (Wax & Mustard Oil Treatment for smooth heels)

मोम और सरसों के तेल के उपचार की ज़रुरत आपको तब पड़ती है, जब अन्य सारे उपचार पूरी तरह असफल हो जाएं। इस उपचार को मोम और सरसों के तेल की मदद से अंजाम दिया जाता है। इसके अंतर्गत इन दोनों पदार्थों को गर्म कर लिया जाता है, जिससे बाद में इनका पेस्ट बनाया जा सके। इसके बाद अपने पैरों को गर्म पानी में डुबोकर रखें तथा पैर नर्म हो जाने पर उनकी एड़ियों में इस मिश्रण का प्रयोग करें। आपके लिए बेहतर यही होगा कि आप एड़ियों की दरारों को मोम के पेस्ट से अच्छे से  भरकर ऊपर से मोज़े पहन लें। यह उपचार तब ज़्यादा कारगर सिद्ध होता है, जब इसका इस्तेमाल सोने से पहले किया गया हो। इस पेस्ट को आप एक बोतल में संभालकर रख सकते हैं तथा रोज़ाना इसका पैरों में प्रयोग करने से पूर्व इसे गर्म करना काफी आवश्यक है। इस उपचार को कम से कम एक हफ्ते तक अवश्य जारी रखें।

Leave a Reply