Home Pedicure Benefits of Pedicure

Benefits of Pedicurefeet

पैर हमारे शरीर के काफी महत्वपूर्ण अंग होते हैं तथा इन्हें खासकर गर्मियों में काफी देखभाल की ज़रुरत होती है। यह वह समय होता है जब आपके पैर धूल और गन्दगी के संपर्क में आते हैं। स्वस्थ पैरों से ही एक साफ़ सुथरे व्यक्ति की पहचान होती है। गलत नाप के जूते, धूल तथा गन्दगी पैरों को बेजान, रूखा और अस्वस्थ बनाती हैं। सैलून (salon) में पेडीक्योर करवाना काफी प्रभावी उपाय है, लेकिन यह काफी महंगा भी साबित होता है। घरेलू पेडीक्योर प्राकृतिक उत्पादों से किया जाता है तथा यह काफी असरदार तथा किफायती भी साबित होता है।

 

घरेलू पेडीक्योर के नुस्खे (Tips on homemade pedicure)

ज़रूरी सामग्री (Ingredients required)

  • नेल पॉलिश रिमूवर (Nail polish remover)
  • नेल क्लिपर (Nail clipper)
  • क्युटिकल पुशर (Cuticle pusher)
  • सूती के पैड्स (pads)
  • क्युटिकल क्रीम
  • तौलिया
  • पानी
  • एक बड़ा पात्र

आपको एक फूट फिलर, लूफा, पैरों के मॉइस्चराइज़र तथा पैरों के स्क्रब (foot filer, Loofah, foot moisturizer and a foot scrub) की भी आवश्यकता होगी।

पेडीक्योर करने का तरीका – विधि (Procedure)

नाखूनों को ट्रिम करें (Trim your nails)

नाखूनों को सही प्रकार से आकार देना और ट्रिम करना काफी आवश्यक है, जिससे कि वे पेडीक्योर की प्रक्रिया के समय बाधा ना पहुंचाएं। नाखूनों को छोटा एवं सीधा काटना काफी ज़रूरी है। अगर आप कोनों को काटने में ज़्यादा समय लगा रही हैं तो फिर समस्या उत्पन्न हो सकती है। अगर आप अपने नाखूनों को मनचाहा आकार देना चाहती हैं तो इसके लिए नेल बोर्ड (nail board) का प्रयोग करें। आप नाखूनों को कुछ देर तक भिगोकर भी उन्हें काट सकती हैं, जिससे कि वे नर्म हो जाएं और आसानी से कट सकें।

पैर डुबोना (Soaking foot)

पेडीक्योर का एक और महत्वपूर्ण कदम है अपने पैरों को डुबोकर रखना। इसके लिए गुनगुने पानी से भरा एक पात्र लें जिसमें नमक मिला हुआ हो। अब इसमें अपने पैरों को 5 से 10 मिनट तक भिगोकर रखें। अगर आप थक हारकर बाहर से आए हैं तो इस विधि को अपनाने से आपके तनाव के स्तर में काफी कमी आएगी। इससे पैरों की सूजन और जलन से भी राहत मिलेगी। आप ताज़े नींबू के रस में भी अपने पैर डुबो सकती हैं। आप अपने घर पर ही फुट वाश (foot wash) उपलब्ध करवा सकती हैं। इसके उपलब्ध न होने पर आप हैण्ड वाश (hand wash) का भी प्रयोग कर सकती हैं।

एक्सफोलिएट (Exfoliate)

अब क्यूटिकल क्रीम को अपनी एड़ियों तथा पैरों के नाखून पर लगाएं। इसके बाद आपको एक अच्छे फुट फाइल का प्रयोग करना होगा जिससे कि आपके पैरों से रूखी और मृत त्वचा की परतें पूरी तरह निकल जाएं। इस परत को निकालना काफी आवश्यक है क्योंकि ऐसा ना करने से समय के साथ आपकी त्वचा काफी रूखी और कड़ी हो जाएगी।

मॉइस्चराइसिंग (Moisturizing)

आप किसी भी घरेलू मॉइस्चराइज़र्स (moisturizers) जैसे जैतून के तेल (olive oil) या बादाम के तेल का प्रयोग कर सकती हैं। यह काफी आवश्यक है कि आप इन तेलों से अपने पैरों की मालिश करें, जिससे किसी भी प्रकार के तनाव या बेचैनी से छुटकारा प्राप्त हो सके।

पेडीक्योर कैसे करे – सजावट (Dress up)

पैरों को मॉइस्चराइज़ कर लेने के बाद आप अपनी पसंदीदा नेल पॉलिश का प्रयोग कर सकती हैं। इससे आपके पैर काफी खूबसूरत दिखने लगते हैं।

पेडीक्योर के लाभ ()

  • नियमित पेडीक्योर करने से कॉर्न, बुनीयन्स तथा फंगल संक्रमणों (corns, bunions and fungal infections) से शुरूआती चरणों में ही छुटकारा मिल जाता है।
  • पेडीक्योर कैसे करे, यह नाखूनों में जमी गन्दगी तथा बैक्टीरिया (bacteria) को साफ़ करते हुए गंदे, लम्बे और असमान नाखूनों से होने वाले संक्रमण पर रोक लगाने में मदद करता है।
  • पेडीक्योर की प्रक्रिया के अंतर्गत आपको अपने पैरों को भिगोना, उनपर अच्छे से मालिश करना तथा उन्हें मॉइस्चराइज़ करना पड़ता है। इससे आपके पैर नमी से भरे हुए रहते हैं एवं उनमें फफोले पड़ने, फटने तथा अंदर से नाखून निकलने की समस्या का सामना आपको नहीं करना पड़ता।
  • मृत त्वचा को निकालने की प्रक्रिया या एक्सफोलिएशन (exfoliation) कॉर्न एवं बुनियन से बचाव में सहायता करती है। यह नयी कोशिकाओं की बढ़त को प्रोत्साहित करती है एवं पैरों को एक स्वस्थ स्वरुप देती है।
  • पैरों की मसाज (massage) पेडीक्योर का सबसे अच्छा कदम है, जिसकी मदद से रक्त संचार अच्छा होता है एवं तनाव तथा पैरों और पिंडलियों (calf) के दर्द से छुटकारा मिलता है।

.

Leave a Reply